गुजरे जमाने की इस सुपरहिट अभिनेत्री की दो शादियां रहीं नाकाम, लेकिन 47 साल बाद भी नहीं लिया तलाक !

राखी 70, 80 और 90 के दशक की एक बहुत ही मशहूर अदाकारा हैं। उन्होंने भारतीय सिनेमा को शर्मीली, दाग, कभी-कभी, तपस्या जैसी दसियों सुपरहिट क्लासिक फिल्में दीं। राखी ने फिल्मी करियर में जितनी कामयाबी हासिल की उतनी सफल उनकी निजी जिंदगी नहीं रही। उन्होंने दो शादियां की। उनकी पहली शादी तब हुई जब वे महज 16 साल की थी। उनकी पहली शादी साल 1963 में बंगाली पत्रकार अजय बिश्वास से हुई थी। लेकिन दो साल में दोनों अलग हो गए। इसके बाद दूसरी शादी उन्होंने लेखक, गीतकार गुलजार से की, हालांकि यह भी सफल नहीं रही।

करियर की लगभग शुरुआत में ही उन्होंने 1973 में लेजेंड्री निर्देशक, कवि और कहानीकार गुलजार से शादी कर ली थी। उन्होंने अपने करियर में कई बेहतरीन और हिट फिल्में दी हैं। हीरोइन से लेकर बहन और मां तक के किरदार में राखी ने ऐसे जज्बात दिखाए कि दर्शकों को उनका हर किरदार याद रह गया। उन्हें नेशनल अवॉर्ड और पद्मश्री पुरस्कार जैसे पुरस्कारों से भी नवाजा गया। मालूम हो कि अपने करियर के शीर्ष पर राखी ने गीतकार और निर्देशक गुलजार से शादी करने का फैसला किया था।

15 मई 1973 को राखी और गुलजार शादी के बंधन में बंध गए थे। उनकी शादी के कुछ वक्त बाद  बेटी मेघना का जन्म हुआ। लेकिन एक साल भी नहीं बीता कि राखी और गुलजार के रिश्तों में खटास आ गई। शादी के एक साल बाद राखी और गुलजार ने अलग होने का फैसला कर लिया।

कहा तो ये भी जाता है गुलजार साहब इस बात के खिलाफ थे कि राखी फिल्मों में काम करें और उन्होंने शादी से पहले भी ऐसी शर्त रखी थी। हालांकि इस बात में कितनी सच्चाई है इसका जवाब किसी के पास नहीं है।

गुलजार से अलग होने के बाद राखी ने बॉलीवुड में अपनी दूसरी पारी खेली। जिसमें उन्होंने कई हिट फिल्में दीं। इनमें कभी-कभी, कसमे वादे, त्रिशूल, मुकद्दर का सिकंदर, दूसरा आदमी, जुर्माना, काला पत्थर आदि शामिल हैं। राखी और गुलजार के रिश्ते को ठीक तरह से समझना है तो इतना जान लीजिए कि शादी के 47 साल बाद भी दोनों ने तलाक नहीं लिया। यहां तक कि वो आज भी अपना रिश्ता उसी तरह से निभा रहे हैं।

राखी और गुलजार की बेटी मेघना ने एक इंटरव्यू में कहा था, “अच्छा ही हुआ दोनों अलग हो गए क्योंकि मतभेद होने के बावजूद साथ रहने से अच्छा है सुकून के साथ अलग-अलग रहना। दोनों ने अपने एकाकीपन को काम से भर लिया है।”

Source: Amar Ujala

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *