जब मलाइका अरोड़ा के लिए अर्जुन कपूर ने कह दी थी ये बड़ी बात, सोच हो ऐसी तो प्यार आएगा ही

इस बात में कोई दोराय नहीं कि पति और पत्नी दोनों ही आजीवन उम्र के साथी हैं, जो एक सामान्य जीवन जीने के साथ-साथ एक-दूसरे को प्रोत्साहित करने, एक दूसरे का ख्याल रखना, घर की जिम्मेदारियों को वहन करने, बच्चों की देखभाल और उनकी शिक्षा के संबंध में एक-दूसरे से जुड़े होते हैं। ऐसे में जहां कुछ कपल्स थोड़ी सी सूझ-बूझ, समझदारी और परिपक्वता के साथ अपने रिश्ते को निभाते हुए दूसरों के लिए मिसाल बनते हैं, तो वहीं कुछ लोगों का रिश्ता समय के साथ और भी बदसूरत हो जाता है।

हालांकि, पति-पत्नी के रिश्ते की गाड़ी को धक्का लगाने का काम पूरी तरह से दो लोगों की अंडरस्टैंडिंग, उनकी बातें और यहां तक कि वह एक-दूसरे के बारे में क्या सोचते हैं, इस पर निर्भर करता है। लेकिन अगर रिश्ते में रहते हुए भी एक-दूसरे के प्रति सम्मान और विश्वास नहीं रखा जाए तो पति-पत्नी जैसा जटिल रिश्ता आप दोनों के लिए ही बोझिल हो जाएगा।

शायद इस बात को बॉलीवुड एक्टर अर्जुन कपूर बहुत अच्छे से समझते हैं, जिन्होंने न केवल जिम्मेदार बनकर अपनी गर्लफ्रेंड मलाइका के साथ अपने रिश्ते को संभाला, बल्कि इस बात को ही साबित कर दिया कपल के बीच की परेशनियों से निपटने के लिए सबसे पहले अपनी स्पेशल वन की जरूरतों को समझना होगा।

…तुम नहीं समझोगी

दरअसल, एक बार फिल्मफेयर के साथ हुई बातचीत में अर्जुन कपूर ने पति-पत्नी के रिश्ते को लेकर अपनी राय जाहिर की थी। एक्टर ने बताया कि, ‘हम में से किसी को भी इस बात को नहीं भूलना चाहिए कि एक पत्नी आपकी जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए कई सारे त्याग करती है। अब चाहे इसमें उसकी नींद का त्याग हो या उसके करियर का। और ऐसे में जब जब वह रात में आपसे पूछती है कि आपका दिन कैसा रहा? तो आप घुमा फिरा के कहते हो कि क्या कहूं, तुम नहीं समझोगी।

हम मर्दों में यही सबसे खराब बात है कि हम कई बार अपनी पत्नी को आहत करने वाली बातें कह देते हैं, जबकि मेरा मानना है कि लोगों को ऐसी मानसिकता बदलने की जरूरत है।’ अक्सर महिलाओं को इस बात की उम्मीद रहती है कि पुरुष उनके लिए सब कुछ करेंगे या सिर्फ महिलाएं इतना चाहती हैं कि पुरुष उन पर भी ध्यान दें।

हमारी मानसिकता के साथ समस्या यह है कि यदि आपकी पत्नी के पास विजिटिंग कार्ड या कोई पदनाम या नौकरी नहीं है तो हम लोग उन्हें बहुत हल्के में लेना शुरू कर देते हैं। खैर, इस बात में कोई शक नहीं बहुत सारे पुरुष आज के समय में यह भूल गए हैं कि पति होने का असली मतलब क्या है? हम इस को मानते हैं कि हर शादी अलग-अलग होती है। हां, लेकिन कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो हर पत्नी को अपने पति से चाहिए होती हैं।

सपोर्ट सिस्टम

सिस्टम मानती हैं, जो कि बहुत हद तक सही भी है। वह हमेशा इस बात की फ़िक्र करती हैं कि आप हर हाल में उनका साथ देंगे भी या नहीं। हां, हम इस बात को मानते हैं कि कभी-कभार चीजें बुरी तरह प्रभावित हो सकती हैं। लेकिन ज्यादा से ज्यादा कोशिश करें कि आप ऐसे समय में चीजों को बहस का मुद्दा न बनाते हुए उन्हें बाद में प्यार से समझाएं।

मिसाल के तौर पर यदि आपकी पत्नी काम के चक्कर में बेहद तनावपूर्ण महसूस कर रही है, तो उन्हें यह विश्वास दिलाने की जरूरत है कि आप भी उनके साथ घर की जिम्मेदारियों में संलग्न हैं। यदि वह पेरेंटिंग से घबराहट महसूस कर रही है, तो उसे यह भरोसा दिलाना होगा कि आप भी उनकी तरह फिक्रमंद हैं।

पति में दोस्त

एक दोस्त वह होता है जिसके साथ आप समय बिताने का मजा लेते हैं। आदर्श रूप से, पति और पत्नी एक दूसरे के सबसे अच्छे दोस्त हो सकते हैं। हालांकि, इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि पत्नी के साथ मिलने वाला अकेला समय केवल बेडरूम तक सीमित हो या फिर पारिवारिक कर्तव्यों तक, बल्कि इस दौरान आप दोनों को कुछ ऐसा करना चाहिए, जो सिर्फ आप दोनों को पसंद हो।

पति ही नहीं बेहतर पिता भी

यदि आप चाहते हैं कि आपके बच्चे बड़े होने पर एक खुशहाल, स्वस्थ और संपन्न शादी के बंधन में बंधें, तो सबसे पहले आपको बेहतर पति ही नहीं बल्कि एक अच्छा पिता भी बनना होगा। जी हां, पिता के रूप में अपने काम को गंभीरता से लें। यह न केवल आपकी शादीशुदा जिंदगी को बेहतर बनाएगा बल्कि एक खुशहाल फैमिली की परिभाषा को भी सेट करेगा।

Source: Navbharat Times

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *