2 साल के मासूम को मां से मिलाने के लिए हाईकोर्ट ने बदला अपना ही फैसला, हुआ कुछ ऐसा …

इंदौर हाईकोर्ट आज सुनवाई के लिए खुल रहा है. कोरोना महामारी के चलते कोर्ट को बंद रखा गया था. केवल वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ही कुछ मामलों की सुनवाई हो रही थी. आज एक दो साल के मासूम के लिए लगभग ढाई महीने के बाद इंदौर हाईकोर्ट खुलेगा और सुनवाई की जाएगी.

दरअसल ये सुनवाई 2 साल के बच्चे के मामले में होने जा रही है, जो माता-पिता के झगड़े के कारण अपने दादा-दादी के पास रह रहा है. बच्चे को उसकी मां से नहीं मिलने दिया जा रहा है जिसके बाद मां ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की है. याचिकाकर्ता मां के एडवोकेट हितेश शर्मा ने बताया कि इस मामले को बेहद संवेदनशील मानते हुए हाई कोर्ट खोलकर सुनवाई करने का निर्णय लिया गया है.

एडवोकेट का कहना है कि बच्चे के माता-पिता शादी के बाद अमेरिका चले गए थे. जंहा दोनों के झगड़े होने पर मां अकेली इंडिया आ गयी और इंदौर में अपने मायके रहने लगी. बच्चे के बिना इंडिया लौटी मां उससे मिलने के लिए तड़पती रही. दो-तीन महीने बाद पिता अमेरिका से आया और मासूम को ग्वालियर में अपने माता-पिता के पास छोड़कर अमेरिका चला गया. हितेश शर्मा ने बताया कि महिला ने बच्चे से मिलने की कोशिश की पर उसे मिलने नहीं दिया गया. महिला ने पुलिस की मदद भी ली लेकिन उसे बच्चे से मिलने की अनुमति नहीं दी गई. जिसके बाद महिला ने हाई कोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की.

एडवोकेट हितेश शर्मा बताते है कि मां अपने बच्चे को पांच साल तक अपने पास रख सकती है. लेकिन इस महिला को उसके अधिकार से वंचित रखा गया है.

Source: Zee News

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *